सिपाही की मौत के बाद प्रेमिका का मिला शव, वाट्सएप कर रहा हत्या की ओर इशारा

खानपुर (गाजीपुर)। गाजीपुर में सिपाही अजय यादव की गोली मारकर हत्या के 24 घंटे बाद ही मंगलवार की सुबह उसकी प्रेमिका का भी शव मिलने से हड़कंप मच गया। अमेठी जिले के गौरीगंज में तैनात सिपाही अंगद यादव हत्याकांड में मंगलवार को एक बड़ा खुलासा हुआ है। घर के पीछे गेहूं की खेत में उसकी प्रेमिका का भी शव मिला है। युवती की गोली मारकर हत्या हुई है।

चेहरा बुरी तरह से कुचला गया था। सिपाही का दो साल पहले अपने पड़ोसी गांव की युवती से कोर्ट मैरेज करने की भी बात सामने आई है। इधर, पुलिस ने युवती के परिवार के 8 लोगों को पूछताछ के लिए थाने बुलाया है।

जानकारी के मुताबिक बभनौली गांव निवासी पुलिसकर्मी अजय यादव का पड़ोसी गांव की लड़की से काफी समय से प्रेम चल रहा था। परिवार के लोग इस रिश्ते से खुश नहीं थे। उन्होंने अजय को शादी करने से मना कर दिया, लेकिन 2018 में प्रेमी जोड़ों ने कोर्ट मैरिज कर ली। इसके बाद से ही रंजिश चल रही थी। दरअसल, अजय यादव बीते 13 फरवरी को 15 दिनों की छुट्टी लेकर अपनी चचेरी बहन की गोदभराई में शामिल होने आया था।

परिजनों के अनुसार, रविवार को कार्यक्रम में शामिल होने के बाद सोमवार की भोर में उसे किसी का फोन आया और वो चला गया था। जिसके बाद उसकी लाश मिली थी। उसके एक हाथ में अवैध पिस्टल थी और दूसरी पिस्टल उसके पैर के पास मिली थी। घटनास्थल की स्थिति देख पुलिस समेत हर कोई घटना को आत्महत्या ही मान रहा था, लेकिन परिजनों का मानना था कि ये किसी ने हत्या की है।

जांच में सिपाही के मोबाइल में व्हाट्सएप पर मैसेज से पूरी कहानी साफ होने लगी। बताया जा रहा है कि अजय के व्हाट्सअप पर क्षेत्र के इचवल निवासिनी उसकी कथित प्रेमिका का मैसेज आया था, जिसमें जगह बताते हुए लिखा था कि मुझसे मिलने के लिए तुरंत आओ वरना मेरा मरा हुआ मुंह देखना। इसके बाद वो तत्काल घर से निकल गया और इसके बाद उसकी लाश मिली थी। इधर ऐसा मैसेज मिलने के बाद पुलिस भी इस मामले को हॉरर किलिंग से जोड़कर देखने लगी और युवती के घर पहुंची।

वहां युवती के बारे में पूछने पर परिजनों ने बताया कि वो गायब है। जिसके बाद पुलिस की शंका बलवती हो गई। इस बीच युवती की लाश उसके ही घर के पीछे गेहूं के खेत में मिला, उसका सिर कूंचा गया था। आशंका जताई जा रही है कि कूंचने से पूर्व उसे गोली भी मारी गई होगी। बहरहाल, पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। पुलिस ने युवती के घर से करीब 8 लोगों को पूछताछ के लिए थाने ले आई है. इस मामले में थानाध्यक्ष जितेंद्र बहादुर सिंह से संपर्क करने पर पता चला कि वो अभी किसी मीटिंग में हैं।