मनरेगा के अधूरे कार्य को देख भड़के आयुक्त, रिकवरी के आदेश

मुफ्तीगंज (जौनपुर): ग्रामीण विकास संयुक्त आयुक्त मनरेगा महेश नारायण पांडे ने सोमवार को ब्लॉक डोभी, केराकत और मुफ्तीगंज में हुए विकास कार्यों की हकीकत जांची। इस दौरान ब्लॉक मुफ्तीगंज के रामपुर गांव में मनरेगा के तहत हुए सुंदरीकरण के लिए 13 लाख 82 हजार स्वीकृत हुए थे, इसमें से 7 लाख 27 हजार रुपए का भुगतान किया जा चुका है. कार्यों में खामी मिलने पर निकासी राशि के रिकवरी के निर्देश दिए हैं.

इस विकास कार्य को कराने के पहले सूचना बोर्ड नहीं लगाया गया था. बोर्ड के बिना मेजरमेंट बुक (एमबी) किए भुगतान कराए जाने पर संयुक्त मनरेगा आयुक्त ने जेई कपिलदेव यादव को फटकार लगाई और रिकवरी का आदेश दे दिए. इसके बाद मुर्तजाबाद में मनरेगा पार्क की जांच की गई. देवाकलपुर में बकरी घर का निरीक्षण किया गया.

हनुआडीह में सिंचाई की नाली की जांच किया गया. आयुक्त ने बताया कि जहां जांच किए वहां-वहां संतोषजनक कार्य था, लेकिन रामपुर का कार्य संतोषजनक न होने के कारण इनकी फाइल रनिंग में डाल दी जा रही है.

बोर्ड के बिना एमबी का भुगतान होने पर बोर्ड की रिकवरी किया जाएगा। इस दौरान संयुक्त मनरेगा आयुक्त खंड विकास अधिकारी लालब्रत यादव, रचित कपूर, आलोक मिश्र व ब्लॉक समेत सभी कर्मचारी व अधिकारी उपस्थित रहे.