बनारस के 58 पुल-पुलियों के बहुरेंगे दिन, सड़कों से जुड़ेंगी नहरों की पटरियां: योगी

वाराणसी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पुराने व खस्ताहाल पुल-पुलियों के निर्माण कार्यों का शुभारंभ किया। इस दौरान योगी ने पुल-पुलियों के जीर्णोद्धार आदि कार्य को 100 दिन में पूर्ण कराने की टाइम लाइन देते हुए नहरों की पटरियों सड़कों से जोड़ने का कार्य अगले चरण में कराने का सुझाव दिया। इस मुहिम से वाराणसी में 70 लाख की लागत से 58 पुल व पुलियों का भी कायाकल्प किया जाएगा।

सीएम योगी ने आगे कहा कि नहर की पटरियां यदि जनता के आवागमन के लिए पक्की सड़कों से जुड़ जाती हैं तो उससे नहरें भी सुरक्षित रहती हैं. उसकी देखभाल की भी आवश्यकता बढ़ जाती है। उनमें वाराणसी की लगभग पांच दर्जन पुल-पुलियों का कार्य शामिल है। उन क्षेत्रों को भी चिह्नित करना चाहिए कि- जहां पर नहर की पटरियों में आवागमन के लिए सड़क बनाने की आवश्यकता है.

कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने जल शक्ति विभाग के तहत सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग कि नहरों पर 25050 पुल-पुलिया के जीर्णोद्धार तथा नवनिर्माण के महाभियान का शुभारंभ किया। इसमें बनारस में 70 लाख रुपए की लागत से 58 पुल-पुलियों का जीर्णोद्धार भी होगा। आज 21542 पुल-पुलियों के मरम्मत एवं जीर्णोद्धार कार्य और 3508 पुल-पुलियों के पुनर्निर्माण कार्य का महाअभियान आरंभ हुआ। इस दौरान विधायक सौरभ श्रीवास्तव एवं सुरेंद्र नारायण सिंह व डीएम कौशल राज शर्मा आदि उपस्थित थे.