छात्रसंघ चुनाव स्थगित होने पर छात्रों ने काटा बवाल, काफी देर तक रही गहमागहमी


जनसंदेश न्यूज़
वाराणसी। जिला प्रशासान के निर्देश पर छात्रसंघ चुनाव स्थगित करने विरोध में महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के छात्रों ने शुक्रवार को जमकर हंगामा किया। छात्रों ने तोड़फोड़ करते हुए पंत प्रशासनिक कार्यालय व पुस्तक मेला को भी बंद कर दिया। यही नहीं शताब्दी महोसत्व के तहत खेल मैदान में चल रहे क्रिकेट प्रतियोगिता भी बाधित करने की कोशिश की। मौके पर मौजूद पुलिस प्रशासन ने किसी तरह आक्रोशित छात्रों को समझा बुझा कर वहां से हटाया। नारेबाजी करते हुए छात्रों ने चीफ प्राक्टर को घेर लिया। चीफ प्राक्टर से छात्रों की वार्ता भी काफी देर तक चली और छात्रों को समझाने बुझाने का प्रयास किया।
दरअसल जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा के निर्देश पर अपर जिलाधिकारी (नगर) गुलाब चंद ने विश्वविद्यालयों व महाविद्यालयों से पंचायत चुनाव के बाद छात्रसंघ चुनाव कराने का सुझाव दिया है। साथ ही यह भी कहा है कि यदि विश्वविद्यालय बगैर पुलिस के सहयोग से छात्रसंघ चुनाव करा सकती है तो वह चुनाव करा सकती है। जिला प्रशासन की जारी इस आशय का पत्र 11 फरवरी को महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ प्रशासन को भी मिला। इस क्रम में छात्रनेताओं को अवगत कराने के लिए चुनाव अधिकारी प्रो. केएस जायसवाल ने शुक्रवार को केंद्रीय पुस्तकालय के समिति कक्ष बैठक बुलाई थी बैठक में उन्होंने जैसे ही जिला प्रशासन का पत्र पढ़कर छात्रों को अवगत कराया। छात्र आक्रोशित हो गए और नारेबाजी करते हुए बैठक का बहिष्कार कर दिया।
इस दौरान छात्रों ने समिति कक्ष की कुर्सियां भी उलट कर तोड़फोड़ करने की कोशिश की। छात्रों का हुजूम नारेबाजी करते हुए पंत प्रशासनिक भवन में दफ्तर को भी बंद करा दिया। यही नहीं नारेबाजी करते हुए खेल मैदान पहुंच गए। वहां खड़ी एक कार को ईंट मार कर क्षतिग्रस्त कर दिया। छात्रों का उपद्रव देख ड्राइवर कार लेकर परिसर से भाग गया । कुछ देर के लिए अफरातफरी मच गईं प् हालांकि, मौके पर तैनात पुलिस फोर्स ने स्थिति को तत्काल नियंत्रित कर लिया। वहीं चीफ प्राक्टर प्रो संतोष कुमार ने आक्रोशित छात्रों से बात करने में जुटे रहे।